HimachalShimla

हिमाचल के इस मन्दिर में पति पत्नी एक साथ दर्शन नही कर सकते

आज हम हिमाचल प्रदेश के एक ऐसे मंदिर की बात करेंगे जहाँ पति-पत्नी एक साथ माँ के दर्शन नहीं कर सकते है। अगर वह एक साथ दर्शन करते है तो उन्हें सजा भुगतनी पड़ती है।  शिमला के रामपुर में समुद्र तल से 11000 फुट की ऊंचाई पर मां दुर्गा का एक स्वरुप विराजमान है जो कि श्राई कोटि माता के नाम से बहुत प्रसिद्ध है।इस मंदिर में दोनों पति-पत्नी जाते तो हैं मगर एक बाहर रह कर एक-दूसरे का इंतज़ार करते है यदि वह ऐसा नहीं करते तो वह उनका अलग होना निश्चित होता है।

इतिहास:जनश्रुति के अनुसार भगवान शिव ने अपने दोनों पुत्रों गणेश जी तथा कार्तिकेय जी को समग्र भ्रमांड का चक्कर काटने को कहा था उस समय कार्तिकेय जी तो भ्रमण पर चले गए थे किन्तु गणपति जी महाराज ने माता-पिता के चक्कर लगा कर ही यह कह दिया था कि माता-पिता के चरणों मैं ही भ्रमांड है।

जब कार्तिकेय जी वापिस पहुंचे तब तक गणपति जी का विवाह हो चुका था यह देख कर कार्तिकेय जी महाराज ने कभी विवाह न करने का निश्चय किया था। श्राईकोटी मैं आज भी द्वार पर गणपति जी महाराज अपनी पत्नी सहित विराजमान है। माना जाता है कि कार्तिकेय जी के विवाह न करने के प्रण से माता बहुत दुखी हुई थी, साथ में इन्होंने यह कहा कि जो भी पति-पत्नी यहां उनके दर्शन करेंगे उस दम्पति का अलग होना तय होगा।

इस कारण आज भी यहां पति-पत्नी एक साथ पूजा नहीं करते। अगर फिर भी कोई ऐसा करता है मां के श्राप अनुसार उसे ताउम्र एक-दूसरे का वियोग सहना पड़ता है। यह मंदिर सदियों से लोगों की आस्था का केंद्र बना हुआ है ।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close