India

पत्नी की गोद में छोड़ गए 10 माह का बेटा, कंधों पर थी पूरे परिवार की जिम्मेदारी

जम्मू-कश्मीर में पुलवामा से करीब 10 किमी दूर पिंग्लेना में सोमवार तड़के आतंकियों से एनकाउंटर में मेजर समेत भारतीय सेना के चार जवान शहीद हो गए। इसमें रेवाड़ी के राजगढ़ गांव निवासी जवान हरि सिंह भी शामिल हैं। वे 55 राष्ट्रीय राइफल्स में थे। उनके शहादत की सूचना के बाद से गांव में शोक की लहर है। हालांकि, परिवार की महिलाओं को उनके शहीद होने की सूचना नहीं दी गई है।

पत्नी की गोद में छोड़ गए 10 माह का बेटा:पड़ोसी का कहना है कि हरि सिंह 2011 में सेना में भर्ती हुए थे। वे दिसंबर में 1 महीने की छुट्टी पर घर आए थे। 28 दिसंबर को कश्मीर लौटे थे। उनकी ड्यूटी 55 राष्ट्रीय राइफल्स में कश्मीर के पुलवामा में लगी हुई थी। उनकी शहादत की खबर से गांव में मातम छाया हुआ है। हरि सिंह की दो साल पहले राधा बाई से शादी हुई थी। उनका 10 महीने का बेटा समागम है

मां-बाप के थे इकलौते बेटे:हरि सिंह सैन्य परिवार से थे। पिता अगड़ी सिंह भी इंडियन आर्मी से रिटायर्ड थे। दो साल पहले उनका निधन हो गया। हरि सिंह अपने मां-बाप के इकलौते बेटे थे। उनकी तीन बहने हैं। तीनों की शादी हो चुकी है। पिता की मौत के बाद हरि सिंह के कंधों पर 68 वर्षीय मां पिस्ता देवी, पत्नी और बच्चे सहित पूरे परिवार की जिम्मेदारी थी।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close